Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

-February 25, 2022

एंडोमेट्रियोसिस बीमारी (Endometriosis Disease) क्या है? जानें- लक्षण, कारण और बचाव

महिलाओं में होने वाली गर्भाशय से जुड़ी बीमारियों में से एक गंभीर बीमारी एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis Disease) भी है। वहीं महिलाओं को एंडोमेट्रियोसिस बीमारी (Endometriosis Disease) तब होती है, जब गर्भाशय के अंदर के टिशू (ऊतक) बढ़कर गर्भाशय के बाहर निकलने और फैलने लगते हैं। इसके अलावा, यह फैलोपियन ट्यूब और अंडाशय के बाहरी और आंतरिक भागों में भी फैलने लगते हैं। एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) बीमारी होने पर महिलाओं को काफी तेज दर्द होता है। विषेशरूप से जब उनका पीरियड्स आता है, तब एंडोमेट्रियोसिस की वजह से होने वाला दर्द (Endometriosis Pain) और बढ़ जाता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह टिशू गर्भाशय के अंदर वाले टिशू की तरह ही दिखता है, लेकिन पीरियड्स के समय यह बाहर नहीं निकल पाता है, जिस वजह से दर्द होने लगता है। एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) बीमारी होने की वजह से महिलाओं में प्रजनन क्षमता भी कम होने की संभावना होती है। ऐसे में आइए आज जानते हैं कि एंडोमेट्रियोसिस की समस्या (Endometriosis Reasons) महिलाओं को क्यों होती है? और एंडोमेट्रियोसिस से बचाव (Endometriosis Treatment) कैसे किया जा सकता है-

एंडोमेट्रियोसिस क्या है? (What is Endometriosis in Hindi)

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis Meaning) एक ऐसी बीमारी है, जिसमें गर्भाशय (Uterus) की लाइनिंग बनाने वाले टिशू से मिलता हुआ टिशू गर्भाशय की गुहा के बाहर बनने लगता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गर्भाशय की लाइनिंग को एंडोमेट्रियम (Endometrium) कहते हैं। वहीं जब ओवरी, बाउल और पेल्विस की लाइनिंग के टिशू पर एंडोमेट्रियल टिश्‍यू (Endometrial Tissue) विकसित होने लगते हैं, तब एंडोमेट्रियोसिस बीमारी (Endometriosis Disease) होती है।

Endometriosis

एंडोमेट्रियोसिस होने के कारण (Endometriosis Causes)

  • हिस्टेरोक्टॉमी और सी-सेक्शन जैसी सर्जरी होने के पश्चात  घाव में एंडोमेट्रियल नसों का जुड़ना।
  • ब्लड सेल्स और एंडोमेट्रियल नसों का शरीर के अंदर अन्य हिस्सों में फैलना।
  • एंडोमेट्रियल टिश्यू की परत (Layer of Endometrial Tissue) टूटने से ब्लीडिंग होना।
  • पीरियड्स के दौरान ली जानें वाली कुछ दवाएं भी इसका कारण बन सकती है।

अधिक जानकारी के लिए आप 88569-8569 पर कॉल करें और पाएं डॉक्टर से FREE सलाह।

एंडोमेट्रियोसिस के लक्षण (Endometriosis Symptoms)

एंडोमेट्रियोसिस के कई लक्षण हैं जिनका जिक्र नीचे किया गया है-

  • पेल्विक हिस्‍से में दर्द महसूस होना।
  • पीरियड्स आने से पहले और होने पर पेट के निचले भाग में दर्द महसूस होना।
  • पीरियड्स के दौरान श्रोणि (Pelvis) में तेज़ दर्द होना।
  • मांसपेशियों के खिंचाव में दिक्कत होना।
  • पीरियड्स के दौरान सामान्य से अधिक ब्लीडिंग होना।
  • अत्यधिक थकान, चक्कर आना और कब्ज आदि का होना।
  • शारीरिक संबंध बनाने के बाद में तेज दर्द होना।
  • बिना पीरियड्स के श्रोणि (Pelvis) के हिस्से में दर्द होना। (आमतौर पर पीरियड्स के दौरान श्रोणि (Pelvis) के हिस्से में दर्द होता है।
  • पेशाब करते समय दर्द होना।
  • पीरियड्स के एक या दो हफ्ते के आसपास ऐंठन महसूस होना।
  • पीरियड्स के दौरान कभी भी कमर के निचले भाग में दर्द होना।
  • पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्‍लीडिंग होना।
  • इन्फर्टिलिटी या बाँझपन (Infertility) की समस्या।

अधिक जानकारी के लिए आप 88569-8569 पर कॉल करें और पाएं डॉक्टर से FREE सलाह।

एंडोमेट्रियोसिस से कैसे करें बचाव (How to Prevent Endometriosis?)

महिलाओं में एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) बीमारी होने की संभावना एस्ट्रोजन हार्मोन लेवल बढ़ने की वजह से होती है। ऐसे में शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन (Estrogen Hormone) को कम करके एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) होने की संभावना से बचा जा सकता है। दरअसल, एस्ट्रोजन की वजह से पीरियड्स के समय गर्भाशय की लाइनिंग मोटी हो जाती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हार्मोनल गर्भनिरोधक दवाओं या गर्भनिरोधक उपचारों के माध्यम से एस्ट्रोजन का लेवल (Estrogen Levels) काफी हद तक कम किया जा सकता है, हालांकि बिना किसी डॉक्टर के सलाह के यह दवाएं नहीं लेनी चाहिए। 

अधिक जानकारी के लिए आप 88569-8569 पर कॉल करें और पाएं डॉक्टर से FREE सलाह

बता दें कि नियमित व्यायाम के जरिए भी एस्ट्रोजन हार्मोन का लेवल (Estrogen Hormone Levels) कम किया जा सकता है। इसके अलावा जिसमें कैफीन मिला हो उन पदार्थों का सेवन कम से कम करना चाहिए। एंडोमेट्रियोसिस बीमारी से पीड़ित महिलाओं को अपनी डाइट का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए और आहार में फाइबर और प्रोटीन से भरपूर  खाने की चीजों को शामिल करना चाहिए।

Endometriosis

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

1. एंडोमेट्रियोसिस होने पर क्या होता है? (What happens when you have Endometriosis?)

जब किसी महिला को एंडोमेट्रियोसिस की समस्या होती है, तो शरीर के एंडोमेट्रियल टिशू ओवरी और अन्य प्रजनन अंगो तक फैल जाते हैं। पीरियड्स के दौरान होने वाले हार्मोनल बदलाव गलत एंडोमेट्रियल टिशू को नुकसान पहुंचाते हैं, जिससे सूजन होने के अलावा अधिक दर्द की समस्या हो जाती है।

2. एंडोमेट्रियोसिस की समस्या किस वजह से होती है? (Endometriosis Causes in Hindi)

एंडोमेट्रियोसिस की समस्‍या किसी इन्फेक्शन (Infection) की वजह से नहीं होकर, शरीर की आंतरिक प्रणाली में कमी की वजह से होती है।

3. क्या एंडोमेट्रियोसिस जानलेवा बीमारी है? (Can endometriosis kill you?)

एंडोमेट्रियोसिस बीमारी जानलेवा नहीं है। हालांकि, यह समस्या अधिक श्रोणि और पेट दर्द व इन्फर्टिलिटी या बाँझपन (Infertility) के रूप में सामने आ सकती है।

4. एंडोमेट्रियोसिस कितना दर्दनाक होता है? (How Painful is Endometriosis?)

एंडोमेट्रियोसिस की समस्या (Endometriosis Problem) में पीरियड्स के दौरान सामान्य से अधिक दर्द होता है और अधिक ब्लीडिंग की समस्या भी होती है। वहीं पीरियड्स के समय श्रोणि (Pelvis) में तेज़ दर्द होता है। इसके अलावा बिना पीरियड्स के भी श्रोणि (Pelvis) के हिस्से में दर्द होता है।

अगर आप एंडोमेट्रियोसिस की समस्या (Endometriosis Problem) से पीड़ित हैं और इस समस्या के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहती हैं, तो 88569-88569 पर कॉल करें और पाएं Medpho के डॉक्टर से FREE  सलाह!