Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

-November 15, 2021

इन 5 लक्षणों से जानें आप गर्भवती हैं या नहीं

Early pregnancy symptoms एक महिला के लिए मां बनना काफी खूबसूरत एहसास होता है। खासकर जब कोई महिला पहली बार मां बनने का एहसास कर रही हो। आमतौर पर लोग मासिक धर्म रुकने या मिस हो जाने को गर्भावस्था से जोड़ लेते हैं लेकिन ऐसा नहीं है, कई बार शरीर में कुछ हार्मोनल बदलाव होते हैं जिसकी वजह से पीरियड्स मिस हो जाते है। वैसे तो लोग प्रेग्नेंसी टेस्ट (pregnancy test) किट के जरिए ही प्रेग्नेंसी का पता लगाते हैं, लेकिन अगर आप ध्यान दें तो शरीर में होने वाले कुछ बदलाव और लक्षणों से भी गर्भावस्था का पता लगाया जा सकता है।

गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण क्या होते हैं? (Symptoms of pregnancy in first month)

वैसे तो अक्सर प्रेग्नेंसी (pregnancy) कंपर्फ करने के लिए लोग टेस्ट (pregnancy test) करते हैं लेकिन इसके अलावा भी इस दौरान शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं जिसे गर्भावस्था के शुरूआती लक्षण कहे जाते हैं। इन लक्षणों से आप अपनी प्रेग्नेंसी का पता लगा सकती हैं। तो चलिए जानते हैं प्रेग्नेंसी के शुरूआती दिनों में किस तरह के लक्षण महसूस होते हैं। 

1. हैवी ब्रेस्ट

गर्भावस्था में ब्रेस्ट का हैवी होना बेहद आम लक्षण (pregnancy symptoms) है। दरअसल गर्भ धारण करने के बाद शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव शुरू हो जाते हैं जिसकी वजह से ब्रेस्ट में सूजन आने लगती है और ब्रेस्ट में भारीपन महसूस होता है। 

2. मितली और उल्टी जैसा महसूस होना

pregnancy symptoms in hindi। आपने देखा होगा अक्सर गर्भवती महिलाओं को उल्टी और मितली जैसा महसूस होता है, ये भी गर्भवस्था के शुरूआती लक्षणों में से एक है। इसके अलावा प्रेग्नेंसी (pregnancy) में सुबह के दौरान कमजोरी भी महसूस होती है जिसे अक्सर मॉर्निंग सिकनेस के नाम से जाना जाता है। मॉर्निंग सिकनेस होने पर गर्भवती महिलाओं को खाना देखकर भी उल्टी महसूस होती है और कुछ खाने के प्रति उनका रूझान खत्म होने लगता है। 

3. बार-बार पेशाब आना

गर्भ धारण करने के बाद महिला को पहले की तुलना में ज्यादा पेशाब लगने लगता है। दरअसल इस दौरान किडनी पहले से ज्यादा सक्रिय हो जाती है जिससे गर्भवती महिला को बार-बार पेशाब (signs of pregnancy) जाने की ज़रूरत पड़ने लगती है। 

Pregnancy

4.खाने की क्रेविंग 

प्रेग्नेंसी (pregnancy) में हमेशा कुछ खाने की क्रेविंग होती रहती है ऐसे में महिला को खाने की किसी खास चीज़ के प्रति आकर्षण बढ़ जाता है। इसके अलावा अचानक से डेली डाइट का बढ़ जाना भी गर्भावस्था के ही लक्षण हैं। 

5. शरीर के तापमान में उतार चढ़ाव

प्रेग्नेंसी होने पर शरीर के तापमान में भी उतार-चढ़ाव होता रहता है। इसके अलावा बार-बार मूड खराब होना भी गर्भावस्था के ही लक्षण (symptoms of pregnancy in first month) हैं। इस दौरान महिला का मूड समय-समय पर बदलता रहता है, कभी कोई चीज़ अच्छी लगने लगती है तो कभी कुछ चीज़ों के प्रति नफरत भी पैदा हो जाती है। 

6.कब्ज़ रहना

हार्मोनल व खानपान में बदलाव के कारण पेट से जुड़ी कई सारी समस्या हो जाती है और पाचन क्रिया में धीमापन आ जाता(signs of pregnancy) है ।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs) 

1.पीरियड के कितने दिन बाद गर्भ ठहरता है?

पीरियड के दौरान ओव्यूलेशन के आसपास जगह होती है, इसलिए गर्भधारण का ये सबसे सही समय होता है। पीरियड्स खत्म होने के बाद ही आप गर्भधारण कर सकती हैं। इसमें पीरियड्स के बाद के 5 दिन और ओव्यूलेशन(pregnancy test kit) वाला दिन शामिल है।

2.गर्भ ठहरने के लक्षण क्या होते हैं?

हैवी ब्रेस्ट, उल्टी, मतली, निप्पल का अलग दिखना और क्रेविंग आदि लक्षण (pregnancy ke lakshan) गर्भावस्था में महसूस होते हैं।

3. प्रेगनेंसी कब से गिनी जाती है? 

गर्भावस्था का पूरा महीना 40 हफ्तों की मानी जाती है और इसकी शुरूआत आखिरी पीरियड्स से हो जाती है। 

4.पीरियड 15 दिन में क्यों आता है?

शरीर में कई ऐसी दिक्कतें हो जाती हैं जिसकी वजह से पीरियड्स प्रभावित होते हैं। इसके अलावा अगर आपका वजन अधिक है तो इससे भी पीरियड्स (pregnancy ke lakshan) में दिक्कतें होने लगती हैं। वैकल्पिक रूप से वज़न बढ़ाने और घटाने की प्रक्रिया अक्सर महावारी खराब होने का कारण बनती है। 

Pregnancy

 5.क्या गर्भावस्था के दौरान पेट में दर्द होता है? 

गर्भावस्था के शुरुआती 3 महीनों में पेट में हल्का दर्द होना काफी आम बात है। इस दौरान शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं जिससे लिगामेंट्स स्ट्रेच होने और मॉर्निंग सिकनेस की समस्या भी रहती है। 

 अगर आप गर्भवस्था से जुड़ी किसी भी समस्या का सामना कर रही हैं तो घबराएं नहीं। परेशानी बढ़ने से पहले Medpho हेल्पलाइन नंबर 88569-88569 #BasEkCall करके डॉक्टर से FREE सलाह लें।