Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

-December 09, 2021

मोटापे के कारण, लक्षण, प्रकार, नुकसान और बचाव

अनहेल्दी लाइफस्टाइल, खाने की गलत आदतें और एक्सरसाइज ना करने जैसे कई कारणों से वर्तमान समय में सबसे ज्यादा लोग अपने मोटापे (obesity) से परेशान हैं। वहीं, मोटापे की वजह से हाई ब्लड प्रेशर (high blood pressure), डायबिटीज (diabetes), हृदय रोग, श्वास की समस्या और किडनी (kidney) की कई तरह की बीमारियां होने लगी हैं। गौरतलब है कि एक बार वजन बढ़ने पर कम करने में बहुत मुश्किल होती है। घंटों एक्सरसाइज करके पसीना बहाना पड़ता है। इसके अलावा, डाइटिंग के चक्कर में बेस्वाद और बहुत कम मात्रा में पौष्टिक भोजन करना पड़ता है। अगर बात भारत में मोटपा (obesity in india) की करें , तो तकरीबन 5% आबादी  मोटापे की समस्या से ग्रसित है।

मोटपा क्या है? (What is Obesity?)

मोटापा (Obesity) वो स्थिति होती है, जब शारीरिक वसा शरीर पर इस सीमा तक एकत्रित हो जाती है कि वो स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालने लगती है। वहीं, मोटापे का मुख्य कारण अत्यधिक कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन, शारीरिक गतिविधियों का अभाव और आनुवांशिकी का मिश्रण है।

मोटापे का प्रकार (Types of Obesity)

मोटापा या ओबेसिटी को यदि बीमारियों का जननी कहा जाये, तो बढ़ा चढ़ाकर नहीं कहना होगा। वहीं यह 6 प्रकार का होता है- 

1.डायबेसिटी

डायबेसिटी शब्द डायबिटीज और ओबेसिटी से मिलकर बना है। वहीं, डायबिटीज (diabetes) और ओबेसिटी (obesity) भी आपस में एक-दूसरे से सीधे जुड़े हैं। दरअसल, मोटे लोगों में डायबिटीज का खतरा कई गुना अधिक होता है। वहीं, कुछ डायबिटीज के मरीज ऐसे भी होते हैं, जिन्हें ये पता ही नहीं होता कि उन्हें टाइप 2 डायबिटीज है।

2.ग्लैंडूर मोटापा

बचपन में ग्रंथियों की विकृति से होने वाले मोटापे ((obesity) को ग्लैंडूलर ओबेसिटी (glandular obesity) कहते हैं। ग्लैंडूर मोटापा की वजह से शरीर में अतिरिक्त चर्बी जमा होने लगती है। मोटापा शरीर के कई अंगों जैसे-  पेट, जांघ, हाथ, कमर आदि पर हो जाता है। एक समय के बाद  यह मोटापा पूरे शरीर पर दिखने लगता है।

3.फ्रॉलिच ओबेसिटी

बचपन में किसी हार्मोन से जुड़ी बीमारी के कारण यह मोटापा देखने को मिलता है। वहीं, इसमें मोटापा सीना, पेट व कमर वाले हिस्से में बढ़ने लगता है। वहीं, बीमारी ठीक होने के बाद यह मोटापा भी कम होने लगता है।

obesity

4.कुशिंग सिंड्रोम

कुशिंग सिंड्रोम के मामले काफी दुर्लभ होते हैं, यह एक जटिल हार्मोनल स्थिति होती है। यह तब होता है, जब किसी व्यक्ति के कोर्टिसोल (cortisol/ एक प्रकार का हार्मोन) का स्तर बहुत अधिक बढ़ जाता है। वहीं, त्वचा की मोटाई बढ़ना, वजन बढ़ना (मोटापा), त्वचा पर निशान या नील पड़ना, हाई बीपी, ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis), शुगर, फूला हुआ चेहरा इसके सबसे सामान्य लक्षण हैं।

5.मोरबिड ओबेसिटी

मोरबिड ओबेसिटी वह स्थिति है जब बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआइ) 40 से अधिक हो जाती है। इस मोटापे के कारण व्यक्ति को कई रोग होने लगते हैं। वहीं, इसके वजह से कई बार मरीज की जान भी चली जाती है।

6.हाइपोथैलमिक ओबेसिटी

भूख को हाइपोथैलमस नियंत्रित करता है। इससे नींद भी नियंत्रित होती है। वहीं जब हाइपोथैलमस ब्रेन ट्यूमर-चोट से प्रभावित होता है तो व्यक्ति को सोकर उठने पर बहुत तेज भूख लगती है। खाना न मिलने पर व्यक्ति को गुस्सा आता है। इस तरह मोटापा बढ़ने लगता  है।

ब्लॉग को पढ़ने के बाद आप जान गए होंगे कि मोटापा 6 तरह का होता है। वहीं, हर तरह के मोटापे का उपचार अलग होता है। ऐसे में 88569-88569 पर #BasEkCall कर डॉक्टर से Free में बात कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

मोटापे  के कारण (Causes of Obesity)

आजकल बच्चों से लेकर बूढ़े और जवान सभी लोगों में ओबेसिटी या मोटापे की बीमारी देखी जा रही है।वहीं, मोटापा के बहुत से कारण होते हैं-

  • पाचन तंत्र कमजोर
  • हार्मोनल बदलाव
  • फिजिकल एक्टिविटी बिल्कुल शून्य
  • बीमारी या दवा की वजह से
  • असंतुलित भोजन
  • आनुवांशिक कारण
  • पर्याप्त नींद नहीं लेना
  • थायरॉयड
  • आर्थराइटिस या ऑस्टियोआर्थराइटिस 

मोटापे के लक्षण (Obesity Symptoms)

मोटापा शारीरिक और मानसिक दोनों ही स्तर पर जीवन में कई सारे बदलाव लाता है। नतीजतन, व्यक्ति में मोटापे के कई लक्षण (obesity symptoms)  दिखाई देते हैं, लेकिन लोग शुरुआती दौर में  ध्यान नहीं देते और इसके बारे में किसी डॉक्टर से परामर्श या सलाह भी नहीं लेते जो आगे चलकर उनके स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक साबित हो जाता है। ऐसे में आइये जानते हैं  मोटापे के मुख्य लक्षण (symptoms of obesity) -

1.सांस फूलना

बार-बार साँस फूलने की समस्या का होना मोटापे का लक्षण है जो कई कारणों से हो सकता है और कई रोगों का कारण बनता है।

2.ज्यादा पसीना आना

अचानक से बार-बार पसीना आना और वह भी बहुत, यह भी मोटापे का लक्षण (obesity symptoms)  है। 

3.खर्राटे आना

आमतौर पर मोटापे से ग्रसित लोगों को नींद में बहुत खर्राटे लेते देखा जा सकता है। वहीं  मोटापा बढ़ने के साथ-साथ खर्राटे की समस्या और भी बढ़ती जाती है। 

4.शारीरिक गतिविधि कम होना

सामान्य रूप से कोई भी शारीरिक गतिविधि करने में असमर्थ होते जाने का संबध भी मोटापे से है और ये मोटापे का प्रमुख लक्षण भी है।

obesity

5.थकान महसूस करना

आमतौर पर बिना किसी  काम के लगातार थकान महसूस करना भी मोटापे का ही एक लक्षण है। 

6.पीठ और जोड़ों में दर्द

मोटापे की समस्या से  पीड़ित लोगों में पीठ और जोड़ों के दर्द की समस्या भी हो जाती है।

7.आत्मविश्वास  कमी का अनुभव 

मोटापे की वजह किसी भी काम को करने की क्षमता में कमी आ जाती है। वहीं, खुद पर विश्वास कम होने लगता है।

8.जरुरत से ज्यादा या कम सोना

जो लोग  जरुरत से ज्यादा सोते हैं या कम सोते हैं, तो यह भी मोटापे का बहुत बड़ा लक्षण होता है।

मोटापे  से बचाव (Obesity Treatment)

मोटापा कम करने के लिए सुबह-सुबह पानी थोड़ा गर्म करके पीना चाहिए जिस से शरीर के अंदर वसा जमा नहीं हो। इसके अलावा, आप निम्नलिखित तरीके से मोटापे की समस्या से छुटकारा प्राप्त कर सकते हैं-

1.प्रोटीन से भरपूर डाइट

प्रोटीन की अधिक मात्रा वाला भोजन लेना भूख को कंट्रोल करने का सबसे आसान तरीका है। दरअसल, फैट कैलोरी (fat calories)  बॉडी में फैट बनाती है और प्रोटीन कैलोरी (protein calories) बॉडी को स्लिम बनाती है। इसलिए खाने में प्रोटीन कैलोरी वाली चीजें अधिक होनी चाहिए। ऐसे में अगर आप कन्फ्यूजन में हैं कि आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, तो आप 88569-88569 पर #BasEkCall कर डॉक्टर से Free में बात कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

2.एक्सरसाइज करें

प्रतिदिन पैदल चलना, तैरना, या साइकिल चलाना जैसे एक्सरसाइज करें।

3.ग्रीन टी का सेवन

अगर आप चाय पीने के शौकीन हैं, तो ग्रीन टी का सेवन (green tea consumption) कर सकते हैं। दरअसल, ग्रीन टी में मौजूद ऐंटीऑक्सिडेंट वजन कम करने में मदद (help lose weight) करता है।

4.शहद का सेवन  

शहद के जरिए भी वजन को  कम किया जा सकता है। अगर आप शहद को गर्म पानी के साथ नींबू डालकर पीते हैं, तो एक महीने में काफी वजन घटा सकते हैं।

5.पनीर का कम सेवन

पनीर में कैलरीज बहुत ज्यादा होती है इसलिए अगर आपका वजन ज्यादा है, तो पनीर का सेवन कभी न करें या कभी-कभार ही करें।

इसके अलावा, आप 88569-88569 पर #BasEkCall कर डॉक्टर से FREE सलाह ले सकते हैं।

अकसर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

मोटापा कम करने के लिए क्या करें?

  • सुबह उठकर सैर पर जाएं और व्यायाम करें।
  • समय से भोजन करें।
  • रात का खाना हल्का व आराम से पचने वाला करें।
  • संतुलित और कम वसा वाला भोजन  करें।
  • भोजन  में पोषक तत्वों को शामिल करें।

मोटापा कैसे बढ़ाएं?

  • आलू को अपने डाइट में नियमित शामिल करें।
  • घी का सेवन करें। क्योंकि घी में कैलारी की काफी अच्छी मात्रा होती है।
  • रोजाना किशमिश खाएं।
  • अंडे का सेवन करें।
  • केला का सेवन करें।
  • बादाम का सेवन करें।  
  • पर्याप्त नींद लें।

मोटापा के नुकसान क्या-क्या हैं?

  • उच्च रक्तचाप
  • बांझपन (infertility)
  • टाइप 2 डायबिटीज
  • कई प्रकार के कैंसर
  • हृदय रोग
  • आघात (stroke)
  • अस्थमा

यदि आप मोटापे की समस्या  से पीड़ित हैं, तो नीचे दिए गए फॉर्म को भरें और हमारे डॉक्टर से सीधा संपर्क करें। इसके अलावा, आप 88569-88569 पर कॉल करके भी एक्सपर्ट्स से FREE सलाह ले सकते हैं।