Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

-June 14, 2022

मलेरिया (Malaria ) के कारण, लक्षण और इलाज

मच्छरों से कई तरह की बीमारियां फैलती हैं जिनमें से मलेरिया भी एक है। ये  कहना गलत नहीं होगा कि मलेरिया एक जानलेवा बीमारी है, क्योंकि अगर समय रहते मलेरिया (malaria) के लक्षणों की पहचान नहीं की गई तो ये इससे पीड़ित व्यक्ति की जान भी जा सकती है। इसलिए आज हम आपको मलेरिया (malaria mosquito)से संबंधित सारी जानकारी देने जा रहे हैं जिससे समय रहते इसकी पहचान की जा सके। 

मलेरिया के कारण (malaria causes in hindi)

मलेरिया एक तरह का बुखार है जो संक्रमित मादा (malaria mosquito) मच्छर में मौजूद परजीवी की वजह से होता है। मलेरिया के रोगाणु इतने बारीक होते हैं कि इसे देखना संभव नहीं है। आपको बता दें कि मलेरिया बुखार प्लॅस्मोडियम वीवेक्स नाम के वायरस की वजह से होता है। 

मलेरिया के लक्षण क्या हैं? (What are The Symptoms of Malaria in Hindi)

मलेरिया होने पर मरीज में कई तरह के लक्षण दिखाई देते हैं लेकिन ध्यान रहे ये ज़रूरी नहीं की सभी लक्षण (malaria ke lakshan) एक ही रोगी में दिखाई दें। अलग-अलग व्यक्ति में अलग-अलग लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

• सांस फुलना
• जी मिचलाना
• बुखार आना
• सिरदर्द होना

सर्दी -जुखाम
• सर्दी -जुखाम
• भूख में कमी
• ठंडी लगना
• चक्कर आना
• दस्त होना
• थकान होना
• उलटी आना

मलेरिया से संबंधित किसी भी तरह के लक्षण दिखने पर तुरंत 88569-88569 पर #BasEkCallकरें और 24/7 डॉक्टर से FREE सलाह लें। 

मलेरिया का इलाज (Treatments for Malaria in Hindi)

मलेरिया का इलाज कई तरीकों से किया जाता है, मलेरिया रोग का पता लगाने के लिए डॉक्टर (malaria test) सबसे पहले रोगी से लक्षण पूछते हैं उसके बाद रक्त जांच का सुझाव दिया जाता है। टेस्ट में बीमारी का पता लगते ही डॉक्टर दवाइयां देते हैं (malaria test) इसके अलावा डॉक्टर कुछ घरेलू उपाय भी बताते हैं जिससे मलेरिया से स्वस्थ होने में मदद मिलती है जैसे- 

गिलोय का इस्तेमाल

1. गिलोय का इस्तेमाल

गिलोय एक आयुर्वेदिक औषधी है जिसका इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों में किया जाता है। गिलोय आमतौर पर बुखार के प्रभाव को कम करने का काम करता है। गिलोय के रस में शहद मिलाकर रोजाना इसके सेवन से मलेरिया (malaria virus) का बुखार कम होता है।  

2. तुलसी

अक्सर मलेरिया (malaria virus) के रोगियों को शरीर और जोड़ों में दर्द भी होता है, इसके लिए तुलसी काफी फायदेमंद है क्योंकि तुलसी का इस्तेमाल एक जड़ी-बूटी की तरह किया जाता है। तुलसी सूजन और जोड़ों के दर्द को कम करने का काम करती है। मलेरिया से पीड़ित व्यक्ति को तुलसी की चाय का सेवन करना चाहिए। 

3. अदरक

अदरक ना केवल भोजन का स्वाद बढ़ाता है बल्कि ये बीमारियों में भी बहुत फायदेमंद है। थोड़े से अदरक के टुकड़े में 2 से 3 चम्‍मच किशमिश (Malaria Treatments) डालकर पानी में उबाल लें, जब ये उबलकर आधा रह जाए तो इसे ठंडा करके दिन में दो बार इसका सेवन करें। इसके अलावा मलेरिया बुखार (malaria fever) में आप हरसिंगार के पत्ते का सेवन भी कर सकते हैं। 

ये भी पढ़ें- जानें डेंगू के कारण लक्षण और इलाज

मलेरिया से बचने के उपाय (prevention of malaria)

साफ-सफाई ही मलेरिया से बचने का एकमात्र अच्छा उपाय है। आप मलेरिया से बचाव के लिए नीचे दिए गए उपायों को अपना सकते हैं- 

1.साफ-सफाई रखें

घर के आप-पास साफ-सफाई रखें। कहीं भी कूड़ा एकत्रित ना होने दें। टूटे-फूटे बर्तन, टायर, कूलर आदि में गंदा पानी भर जाता है, कुछ दिनों बाद इस पानी में मच्छर पनपने लगते हैं जो मलेरिया (malaria fever) फैलाने का काम करते हैं। 

2.पानी ढक कर रखें

शायद आपको जानकर हैरानी होगी कि घर में इस्तेमाल किया जाने वाला पानी भी मलेरिया फैला सकता है। क्योंकि मलेरिया (prevention of malaria) के मच्छर साफ पानी में भी पनप सकते हैं, इसलिए घर में इस्तेमाल किए जाने वाले पानी को हमेशा ढक कर ही रखें।

3.फुल बाजू वाले कपड़े पहनें 

बरसात के मौसम में डेंगू मलेरिया जैसी बीमारी फैलना काफी आम है, इसलिए हमेशा भरपूर कपड़े ही पहनें जिससे मच्छर काट ना सके। 

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

1.मलेरिया का बुखार कितने दिन तक रहता है?

मलेरिया का बुखार 3 से 5 दिनों तक रह सकता है, इसके साथ-साथ खांसी, नाक बहना, थकावट और सिर दर्द आदि भी मलेरिया के ही लक्षण हैं। 

2.मलेरिया होने का मुख्य कारण क्या है?

मलेरिया बुखार एक संक्रमक बीमारी है जो संक्रमित मच्छर में मौजूद परजीवी के कारण होता है। ये रोगाणु इतने छोटे होते हैं कि इन्हे देखा नहीं जा सकता है। 

3.कौन सा मच्छर काटने से मलेरिया होता है?

मलेरिया फीमेल एनोफिलीज मच्छर (malaria mosquito name) के काटने से फैलता है। इस मादा मच्छर में पाया जाने वाले जीवाणु को प्लाज्मोडियम नाम से जाना जाता है। 

4.ठंड लगकर बुखार आने पर क्या करना चाहिए?

ठंड लग के तेज़ बुखार (malaria fever) आना मलेरिया के लक्षण हैं। इसके साथ ही सिर दर्द, उल्टी, पेट दर्द, कमजोरी और मांसपेशियों में दर्द भी मलेरिया के ही लक्षण हैं। 

5.मलेरिया बुखार कैसे ठीक होता है?

मलेरिया के रोगियों को बिना लापरवाही के तुरंत डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए। इसके अलावा आप कुछ घरेलू उपाय भी कर सकते हैं जैसे गिलोय का सेवन, तुलसी और पौष्टिक आहार आदि। 

मलेरिया से संबंधित किसी भी तरह के लक्षण दिखने पर तुरंत 88569-88569 पर #BasEkCalll करें और 24/7 डॉक्टर से FREE सलाह लें।