Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

-January 18, 2022

हार्ट सर्जरी (Heart Surgery) क्या होता है? जानें- प्रकार, खर्च और इलाज

मौजूदा वक़्त में अनियमित दिनचर्या और खान-पान से दिल की बीमारियों का खतरा काफी बढ़ गया है। वहीं, अगर शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक हो जाए तो हार्ट से संबंधित कई तरह की बीमारियों के होने की संभावना बढ़ जाती है, जैसे- हार्ट में खून का जमना, दिल में छेद होना और हार्ट में दर्द होना आदि। ऐसे में मरीज को हार्ट की सर्जरी (heart surgery) द्वारा ठीक किया जाता है। हालांकि, हार्ट सर्जरी (heart surgery) कैसे किया जाता है, हार्ट सर्जरी कितने प्रकार का होता है? इस बात से अनजान होने की वजह से कुछ लोग परेशान रहते हैं। ऐसे में आइए आज हम आपको हार्ट सर्जरी (heart surgery) के बारे में विस्तार से बताते हैं-

हार्ट ऑपरेशन के प्रकार (Types of Heart Surgery)

हार्ट की बीमारी कई प्रकार की होती है, जैसे- हार्ट ब्लॉकेजसांस लेने में तकलीफ, हार्ट में खून का जमनादिल में छेदहार्ट की धड़कन कम होना आदि। वहीं, हार्ट की बीमारी के मुताबिक, हार्ट का सर्जरी (heart surgery) किया जाता है। ऐसे में आइए जानते हैं हार्ट ऑपरेशन के प्रकार (types of heart surgery)-

1.कोरोनरी आर्टरी बाईपास ग्राफ्टिंग (Coronary Artery Bypass Grafting)

हार्ट की धमनियों में ब्लॉकेज को दूर करने के लिए ज्यादातर डॉक्टर एंजियोप्लास्टी (angioplasty) की सलाह देते हैं। हालांकि, पिछले कुछ वर्षों से कोरोनरी आर्टरी बाईपास ग्राफ्टिंग सर्जरी (Coronary Artery Bypass Grafting Surgery) की सफलता दर ज्यादा है। इस सर्जरी से ब्लॉकेज दूर हो जाती है और लंबे समय तक हृदय की कार्यक्षमता में बढ़ोत्तरी होती है।

2.हृदय वाल्व रिप्लेसमेंट सर्जरी (Heart Valve Repair or Replacement Surgery)

हार्ट वाल्व रिप्लेसमेंट सर्जरी (heart valve replacement surgery) हृदय के क्षतिग्रस्त हो चुके वाल्व को रिप्लेस या प्रतिस्थापित (replaced) करने के लिए की जाती है। यह ओपन हार्ट सर्जरी (open heart surgery) हो सकती है। वहीं, हृदय वाल्व रिप्लेसमेंट सर्जरी (heart valve replacement surgery) से क्षतिग्रस्त हुए वाल्व को ठीक करने में मदद के अलावा लंबे आयु में मदद मिलती है।

Heart surgery

3.पेसमेकर इम्प्लांटेशन (Pacemaker-implantation)

पेसमेकर को सीने की त्वचा में लगाया जाता है, ताकि किसी भी व्यक्ति के हार्टबीट को नियंत्रित किया जा सके। पेसमेकर इम्प्लांटेशन (Pacemaker-implantation) की जरूरत हार्ट से संबंधित कई तरह की समस्याओं से जूझ रहे लोगों को पड़ती है। पेसमेकर इम्प्लांटेशन (Pacemaker-implantation) एक छोटी सी सर्जरी के द्वारा किया जाता है। पेसमेकर को स्थायी रूप से इम्प्लांट कर के हार्ट फेलियर (heart failure) जैसे जोखिमों को आसानी से कम किया जाता है।

4.हार्ट एंजियोप्लास्टी (Heart Angioplasty)

एंजियोप्लास्टी (Angioplasty) एक ऐसी सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसमें हृदय की मांसपेशियों तक ब्लड सप्लाई करने वाली रक्त वाहिकाओं (कोरोनरी आर्टरीज़) को खोला जाता है। वहीं, एंजियोप्लास्टी का सहारा डॉक्टर अकसर दिल का दौरा (heart attack) या स्ट्रोक जैसी समस्याओं के बाद लेते हैं।

5.हृदय को बदलना (Heart Transplant)

हृदय ट्रांसप्लांट सर्जरी (heart transplant surgery) रुके हुए हृदय को एक स्वस्थ हृदय से बदलने के लिए की जाती है। जब कोई भी उपचार कारगर न हो तब अंत में हार्ट ट्रांसप्लांट सर्जरी (heart transplant surgery) ही एकमात्र विकल्प होता है। गौरतलब है कि हार्ट ट्रांसप्लांट कोई नहीं करा सकता है। heart transplant surgery वहीं व्यक्ति करा सकता है जिसकी उम्र 65 वर्ष से अधिक न हो, व्यक्ति को अन्य गंभीर फेफड़ों, लिवर या गुर्दे के रोग न हो और व्यक्ति शराब आदि कोई नशा न करता हो।

हार्ट सर्जरी की कॉस्ट कितनी होती है?

हार्ट सर्जरी में 50 हजार से लेकर 2 लाख रुपए तक खर्च हो सकते हैं। दरअसल, हार्ट से संबंधित अलग-अलग बीमारियों में इलाज भी उसी तरह से किया जाता है। दिल के मरीजों का बाईपास सर्जरी करना हो या ओपेन हार्ट सर्जरी, तो प्राइवेट हास्पिटलों में इसके लिए कई लाख रुपए तक चार्ज किए जाते हैं।

यदि आप हार्ट सर्जरी से संबंधित कोई भी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो 88569-88569 पर #BasEkCall करें और Medpho के डॉक्टर से FREE परामर्श लें

ओपेन हार्ट सर्जरी क्या है? (open heart surgery)

कार्डियक सर्जरी (cardiac surgery) को ओपन हार्ट सर्जरी (open heart surgery) भी कहा जाता है। वहीं, open heart surgery दो तरह की होती है। एक जब हृदय की नसें ब्लॉक हो जाती हैं तब और दूसरी जब हृदय के वॉल्व में समस्या आ जाती है।

हार्ट बाईपास सर्जरी क्या है? (heart bypass surgery)

बाईपास का मतलब होता है एक रास्ता यदि बंद हो तो दूसरे रास्ते को खोल देना। जब दिल तक खून और ऑक्सीजन के पहुंचने के रास्ते में ब्लॉकेज हो जाता है तो सर्जरी के जरिए उस ब्लॉकेज के आसपास से नया रास्ता दिल तक बना दिया जाता है, जिससे ऑक्सीजन और खून को सुचारू रूप से पहुंचना जारी रह सके।

हार्ट सर्जरी के बाद डाइट प्लान (Diet plan after heart surgery)

यदि आप हार्ट के मरीज हैं और आपकी सर्जरी हुई है तो आपको अपने खान-पान का बहुत ख्याल रखने की जरूरत है। ऐसे में आइए जानते हैं हार्ट सर्जरी के बाद डाइट प्लान कैसा होना चाहिए-

  •       ऑयली खाना न खाएं
  •       शाकाहारी खाना खाएं
  •       नमक कम खाएं
  •       ज्यादा मीठा न खाएं

इसके अलावा, आप 88569-88569 पर #BasEkCall कर Medpho के डॉक्टर से Free सलाह ले सकते हैं।

अकसर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

1.हार्ट ऑपरेशन कैसे किया जाता है?

बाईपास सर्जरी के आपरेशन के लिए पहले सीने के बीच की हड्डी (स्टरनम) को काटकर हृदय को धड़कने के लिए खोल दिया जाता है। उसके बाद उसे हार्ट-लंग मशीन से जोड़ दिया जाता है जिससे हृदय और फेफड़ों का काम यह मशीन करने लगती है। तब फिर हृदय का ऑपरेशन किया जाता है।

Heart surgery

2. हार्ट सर्जरी के बाद क्या खाएं क्या नहीं?

आप सब्जियों में ब्रोकोली, लौकी, करेला और हरी सब्जियां का सेवन कर सकते हैं। इन हरी सब्जियों के सेवन से हार्ट में कोलेस्ट्रॉल जमा नहीं होता और हार्ट की रिकवरी तेजी से होगी। वहीं आपको मीट और प्रोसेस्ड फूड ज्यादा मीठा खाने से बचना चाहिए।

इसके अलावा, आप 88569-88569 पर #BasEkCall कर Medpho के डॉक्टर से Free सलाह ले सकते हैं।

3.हार्ट ब्लॉकेज का ऑपरेशन कैसे होता है?

सबसे पहले हार्ट के मरीज को बेड पर लेटा कर उसके दोनों पैरों को बेल्ट से बांधा दिया जाता है। फिर मशीन से प्रेशर दिया जाता है। इससे कोरोनरी धमनियों की जड़ों में दबाव बढ़ाने से हृदय की धमनियों (heart arteries) में रक्त प्रवाह बढ़ जाता है। नतीजतन, रक्त का बहाव तेज होने से हृदय की सभी छोटी-बड़ी हजारों धमनियां चौड़ी हो जाती हैं और ब्लॉकेज हट जाता है।

यदि आप हार्ट सर्जरी से संबंधित कोई भी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो  88569-88569 पर #BasEkCall करें और Medpho के डॉक्टर से FREE परामर्श लें।