Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

-January 13, 2022

हार्ट अटैक (Heart Attack) आने के कारण, लक्षण और उपचार

हार्ट अटैक (heart attack) एक ऐसी समस्या का नाम है जिसका नाम सुनते ही सबका दिल घबरा जाता है। यह किसी भी व्यक्ति के लिए एक ऐसी स्थिति है, जिस पर यदि समय रहते नियंत्रण नहीं पाया जाए तो इससे व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। गौरतलब है कि जब किसी भी व्यक्ति के शरीर में हार्ट तक ऑक्सीजन सही मात्रा में नहीं पहुंचता, तो व्यक्ति को हार्ट अटैक (heart attack)  आता है।

वहीं, ज़्यादातर हार्ट के मरीजों की मौत का मुख्य कारण जानकारी का अभाव या मरीज के अस्पताल पहुंचने से पहले प्राथमिक उपचार नहीं दिया जाना होता है। ऐसे में आइए आज हम आपको हार्ट से संबंधित प्रमुख सवालों के जवाब आपको सिलसिलेवार तरीके से बताते हैं-

हार्ट अटैक क्या है? (what is a heart attack?)

जब किसी व्यक्ति के दिल में किसी तरह की कोई समस्‍या होती है, तो उससे रक्त प्रवाह प्रभावित होता है और इससे दिल क्षतिग्रस्त होने लगता है। वहीं, अगर लंबे समय तक यह रुकावट बरकरार रहती है, तो धीरे-धीरे यह समस्या जानलेवा हो सकती है। ऐसे में सही समय पर इसका उपचार ना किया जाए तो इससे जान जाने का जोखिम बन जाता है और व्यक्ति को हार्ट अटैक (heart attack) की संभावना हो जाती है।

साइलेंट हार्ट अटैक क्या है? (what is a silent heart attack?)

जब किसी व्यक्ति को साइलंट हार्ट अटैक (silent heart attack) का दौरा पड़ता है, तो आमतौर पर सीने में उस तरह का तेज दर्द नहीं होता है, जैसा कि हार्ट अटैक (heart attack) के दौरान होता है। इसके साथ ही मरीज को सांस लेने में भी किसी तरह की कोई समस्या होने की संभावना कम होती है। गौरतलब है कि सीने में भारीपन, शरीर में कमजोरी और सीने पर जलन जैसे सामान्य लक्षणों के साथ भी आप साइलंट हार्ट अटैक (silent heart attack) का शिकार हो सकते हैं। ऐसे में सीने की जलन और भारीपन को कभी भी हल्के में लेकर नजरअंदाज नहीं करें।

Silent heart attack

दिल का दौरा पड़ने का कारण (heart attack causes)

हार्ट अटैक का दौरा पड़ने के कारण (heart attack causes) कई हैं, लेकिन उनमें जो प्रमुख कारण हैं उनका नाम नीचे दिया गया है-

  •       आनुवंशिकी
  •       धूम्रपान
  •       फैटी डाइट
  •       शराब
  •       हाई कोलेस्ट्रॉल
  •       डायबिटीज
  •       हाई ब्लड प्रेशर
  •       मोटापा और शारीरिक निष्क्रियता

दिल का दौरा पड़ने का मुख्य कारण क्या है? (what is the main cause of a heart attack?)

किसी भी व्यक्ति को जब दिल का दौरा पड़ता है तो उसमें सिगरेट, धूम्रपान, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, अधिक वजन, हाई कोलेस्ट्रॉल, कम शारीरिक गतिविधि, हार्ट अटैक का पारिवारिक इतिहास, तनाव और चिंता आदि प्रमुख कारणों में शामिल होते हैं।

हार्ट अटैक के लक्षण (heart attack symptoms)

डॉ. संदीप खासा, कार्डियोलॉजिस्ट, उजाला सिग्नस महाराजा अग्रसेन अस्पताल (पानीपत) के मुताबिक, हृदय रोग बहुत ही घातक बीमारी है, जिसकी वजह से हर साल दुनियाभर में हजारों-लाखों लोग मारे जाते हैं। वैसे तो हार्ट अटैक की समस्या किसी को भी हो सकती है, लेकिन बढ़ती उम्र के साथ इसका खतरा और भी ज्यादा बढ़ जाता है। ऐसे में आइए जानते हैं हार्ट अटैक के उन लक्षणों के बारे में, जिन्हें भूलकर भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए-

  •       सीने में बेचैनी
  •       जी मिचलाना, सीने में जलन, अपच या पेट दर्द
  •       बांह में दर्द
  •       चक्कर आना
  •       गले या जबड़े में दर्द

दिल का दौरा पड़ने का कारण क्या है? (what is the reason of heart attack?)

जब शरीर की नसों में रक्त प्रवाह सुचारु रूप से नहीं हो पाता है, तो ऐसी स्थिति में रक्त जमने की समस्या शुरू हो जाती है। रक्त के जमने की वजह से हार्ट तक रक्त पहुँचने में असमर्थ होता है। इसी के साथ हार्ट को ऑक्सीजन मिलनी बंद हो जाती है। शरीर की यह स्थिति हार्ट अटैक की होती है। 

हार्ट अटैक आने पर क्या करें?

हार्ट अटैक एक जानलेवा बीमारी है। ऐसे में हार्ट अटैक के सभी लक्षणों पर ध्यान दें और अगर कुछ नए लक्षण महसूस हो रहे हैं और वे दूर नहीं हो रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। आप घर बैठें भी 88569-88569 पर #BasEkCall कर Medpho के डॉक्टर से Free में बात कर सकते हैं।

दिल के दौरे का तुरंत इलाज (immediate treatment for heart attack)

हार्ट अटैक का दौरा पड़ने पर व्यक्ति को सीने में इतना तेज दर्द होता है कि उसका शारीरिक और मानसिक संतुलन बिगड़ जाता है। वहीं, मरीज की इस स्थिति को देखकर अन्य लोग भी घबरा जाते हैं। लेकिन यह स्थिति खुद को संभालने और मरीज की केयर करने की होती है। यदि मरीज को प्राथमिक उपचार दिया जाए, तो स्थिति को संभाला जा सकता है। तो चलिए जानते है इसके बारे में−

1.सीपीआर दें

सीपीआर से दिल की बंद हुई धड़कनें शुरू हो जाती हैं। इसे करने के लिए मरीज को कमर के बल लिटाएं, अपनी हथेलियों को मरीज के सीने के बीच रखें। हाथ को नीचे दबाएं ताकि सीना एक से लेकर आधा इंच चिपक जाए। ऐसा प्रति मिनट 100 बार करें।

Heart attack treatment

2.सीने को दबाएं

दिल के दौरे में धड़कनें बंद हो सकती हैं। हार्ट अटैक का दौरा अगर अचानक हो तो सीने को दबाकर सांस चालू करने की कोशिश करें।

3.इमर्जेंसी फोन करें

मरीज को लिटाने के तुरंत बाद इमरजेंसी नंबर पर कॉल करें और एंबुलेंस को तुरंत बुलाएं।

इसके अलावा, आप 88569-88569 पर #BasEkCall कर Medpho के डॉक्टर से Free सलाह ले सकते हैं।

अकसर पूछे जाने वाले सवाल

1.दिल के दौरे का तुरंत इलाज क्या है?

जब भी हार्ट अटैक की समस्या हो तो अपनी मर्जी से या मेडिकल से लेकर यूं ही किसी दवाई का सेवन ना करें। बल्कि किसी डॉक्टर से सलाह या उसके पास जाकर उनसे चेकअप के बाद ही कोई दवाई लें। इसके अलावा, आप 88569-88569 पर #BasEkCall कर Medpho के डॉक्टर से Free सलाह ले सकते हैं। 

2.साइलेंट हार्ट अटैक क्यों आता है?

साइलेंट हार्ट अटैक की स्थिति किसी भी व्यक्ति में तब बनती है जब हृदय की ओर रक्त प्रवाह धीरे हो जाता है या बंद हो जाता है।

3.हार्ट अटैक के बाद क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

दिल का दौरा पड़ने के बाद मरीज को अपनी सेहत और खानपान के प्रति खासतौर से अलर्ट हो जाना चाहिए। इसकी अनदेखी सेहत पर बहुत भारी पड़ सकती है। ऐसे में बेक्ड फूड आइटम्स केक, कुकीज़, पेस्ट्रीज़ का सेवन नहीं करें। ये खाने में भले ही कितनी स्वादिष्ट लगती हों, लेकिन हेल्दी बिल्कुल नहीं होती हैं। मीठा खाने का दिल करे तो ऐसी स्थिति में फ्रूट्स और जूस का सेवन करें।

यदि आप हार्ट अटैक का कोई भी लक्षण महसूस कर रहे हैं, तो देर ना करें तुरंत 88569-88569 पर #BasEkCall करें और Medpho के डॉक्टर से FREE परामर्श लें।