Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

-March 04, 2022

Miscarriage/Abortion: गर्भपात के कारण, लक्षण और दुष्प्रभाव

प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के पहले तीन-चार महीने में गर्भ (Fetus) में पल रहे भ्रूण के नष्ट होने को मिसकैरेज (Miscarriage) या गर्भपात (Abortion) कहते हैं। गर्भपात (Abortion) के कई कारण हो सकते हैं। वहीं मिसकैरेज (Miscarriage) या गर्भपात (Abortion) के लिए लिए मां को गलत या जिम्मेदार ठहराना उचित नहीं है।

नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) के अनुसार, इसके लिए भ्रूण में असामान्य क्रोमोसोम्स को जिम्मेदार माना जाता है। वहीं, मिसकैरेज के लगभग 2 से 5% मामलों में जेनेटिक्स को दोषी ठहराया जाता है। दरअसल, भ्रूण में कम या बहुत ज्यादा क्रोमोसोम्स (Chromosomes) की वजह से मिसकैरेज (Miscarriage) या गर्भपात (Abortion) होता है। इस अवस्था में गर्भ में पल रहा भ्रूण पूरी तरह से विकसित नहीं हो पाता है। 

हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार, बार-बार गर्भपात या देरी से गर्भपात के कई कारण (Causes of Abortion) हो सकते हैं। जैसे- ब्लड क्लॉटिंग डिसॉर्डर, थायराइड की समस्या, सर्वाइकल से कमजोरी या इम्यून सेल्स भी प्रजनन क्षमता (Fertility) को प्रभावित कर सकते हैं। मिसकैरेज (Miscarriage) का दुख झेलने वाली बहुत सी महिलाओं भविष्य में मां बनने का सौभाग्य मिलता है। हालांकि, अगर किसी महिला को बार-बार या काफी ज्यादा समय होने के पश्चात  गर्भपात की समस्या (Problem of Abortion) होती है, तो उन्हें इसकी जांच अवश्य करवानी चाहिए।

अधिक जानकारी के लिए 88569-88569 पर कॉल करें और पाएं Medpho के डॉक्टर से FREE सलाह

गर्भपात क्या है? (What is abortion?)

कुछ महिलाओं का गर्भ पूरे समय ठहर नहीं पाता है। वहीं, कभी-कभी शरीर गर्भ को किसी समस्या की वजह से, स्वयं ही गिरा देता है। इसे स्वत: गर्भपात (Abortion) या मिसकैरेज (Miscarriage) कहते हैं। कुछ महिलाएं गर्भ गिराने का फैसला करती हैं। ऐसे गर्भपात को उत्प्रेरित गर्भपात (Induced Abortion) कहते हैं।गौरतलब है कि उत्प्रेरित गर्भपात (Induced Abortion) एक सोचा-समझा हुआ, नियोजित निर्णय होता है ।

What is abortion

गर्भपात के कारण (Causes of Abortion)

आमतौर पर गर्भपात (Abortion) कराने का फैसला हमेशा ही बहुत बड़ा फैसला होता है। वहीं, गर्भपात के कई कारण (Causes of Abortion) हो सकते हैं:-

1.गर्भपात का सोचा-समझा हुआ या नियोजित कारण

  • गर्भ धारण की वजह से मां का हेल्थ प्रभावित होना।
  • बलात्कार के बाद गर्भ ठहर जाना।
  • परिवार में बच्चे अभी बहुत छोटे हैं।
  • पहले ही परिवार के बच्चों की संख्या पर्याप्त है ।
  • माता-पिता को बच्चा नहीं चाहिए।
  • कोई महिला को बलपूर्वक गर्भपात कराने के लिए विवश कर रहा है।

2.अनियोजित तथा अवांछित गर्भ के कारण

  • पति-पत्नी दोनों ही गर्भ धारण की प्रक्रिया से बिल्कुल अनजान हैं।
  • अभी उम्र कम है।
  • परिवार नियोजन के साधन उपलब्ध नहीं हैं।
  • परिवार नियोजन के साधन को ठीक से इस्तेमाल नहीं किया गया है।
  • परिवार नियोजन के साधन विफल हो जाते हैं।
  • बच्चे पैदा करने के लिए विवश किया जाता है।

सुरक्षित गर्भपात (Safe Abortion)

गर्भपात कराना सुरक्षित है, अगर-

  • एक अनुभवी डॉक्टर के द्वारा किया जाए।
  • एडवांस उपकरणों का इस्तेमाल किया जाए।
  • योनि तथा गर्भाशय में जो वस्तु डाली जाती है, उसमें कीटाणु नहीं हों।
  • सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त अस्पताल में किया जाए।

असुरक्षित गर्भपात (Unsafe Abortion)

गर्भपात करना असुरक्षित होता है, अगर-

  • किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा किया जाए, जिसको पता नहीं हो।
  • सही औजारों और दवाईयों का इस्तेमाल नहीं किया जाए।
  • मान्यता प्राप्त अस्पताल में न किया जाए।
  • 3 महीनों (12 सप्ताह) के गर्भ धारण के पश्चात कराया जाए।

अधिक जानकारी के लिए 88569-88569 पर कॉल करें और पाएं Medpho के डॉक्टर से FREE सलाह

गर्भपात के बाद देखभाल कैसे करें? (After Abortion Care)

  • इन्फेक्शन पर नियंत्रण के लिए, गर्भपात वाले दिन से डॉक्टर के बताए अनुसार दवाई लें।
  • रक्तस्राव समाप्त हो जाने के 2 दिन बाद तक शारीरिक संबंध न करें और न ही योनि में कोई वस्तु डालें।
  • अगर आपके पेट में दर्द है तो आराम करें और पेट पर गर्म पानी की बोतल से सिकाई करें।
  • जितना हो सके तरल पदार्थ पिएं, ताकि आप जल्दी स्वास्थ्य लाभ कर सकें।

After abortion care

गर्भपात में खतरे के लक्षण

अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण नजर आ रहा है तो जितना जल्दी हो सके डॉक्टर से संपर्क करें

  • योनि से बहुत ज्यादा रक्त स्त्राव
  • बुखार होना
  • पेट में तेज दर्द होना
  • बेहोश होना
  • योनि से दुर्गन्धयुक्त स्त्राव

 अधिक जानकारी के लिए 88569-88569 पर कॉल करें और पाएं Medpho के डॉक्टर से FREE सलाह।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

1.क्या चीज खाने से गर्भपात हो जाता है?

गर्भवती महिलाओं को ऐसी चीज खाने से परहेज करना चाहिए जिसमें कैलोरी बहुत हो। इसके अलावा, अधपके मीट और समुद्री भोजन को खाने से बचना चाहिए। वहीं, प्रोसेस्ड मीट, अधपका तला और भुना मीट का सेवन भूलकर भी न करें। इससे बीमार होने का खतरा ज्यादा रहता है।

2.गर्भपात कितने महीने तक कराया जा सकता है?

कोई भी महिला, अगर सफाई करवाना चाहे, तो 5 महीने या 20 हफ्ते तक के गर्भ की सफाई करवा सकती है। भारत सरकार ने 1971 से महिलायों को गर्भपात (यानी सफाई) करने की अनुमति दी है।

3.गर्भपात कितनी बार करना चाहिए?

लगातार गर्भपात करवाने से भविष्य में होने वाली प्रेग्नेंसी कष्टदायक हो सकती हैं। ऐसा कहा जाता है कि जो महिलाएं ज्यादा गर्भपात कराती हैं। उनमें अवधि पूर्व जन्म या शिशु का वजन बहुत कम होना आदि परेशानियां पैदा होती हैं।

यदि आप गर्भपात की समस्या से पीड़ित हैं, तो 88569-88569 पर कॉल करके Medpho के डॉक्टर से FREE में सलाह ले सकते हैं।