Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

-June 06, 2022

टीबी (TB) क्या है? जानें- लक्षण, कारण और बचाव के तरीके

टीबी एक संक्रामक बीमारी है, जोकि ट्यूबरक्‍युलोसिस बैक्टीरिया (Tuberculosis Bacteria) की वजह से होती है। टीबी (TB) बीमारी का सबसे अधिक असर फेफडों पर देखने को मिलता है। वहीं, फेफड़ों में टीबी सबसे कॉमन होता है। हालांकि, टीबी (TB)  फेफड़ों के अलावा ब्रेन, यूटरस, मुंह, लिवर, किडनी और गले आदि में भी हो सकती है। बताते चलें कि फेफड़ों का टीबी हवा के जरिए एक से दूसरे इंसान में फैलती है।

दरअसल, टीबी से पीड़ित व्यक्ति के खांसने और छींकने के दौरान मुंह-नाक से निकलने वालीं बारीक बूंदें इन्हें फैलाती हैं। वहीं, फेफड़ों के अलावा दूसरी कोई टीबी खांसने और छींकने से एक से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलती। टीबी शरीर के जिस हिस्से में होती है, अगर सही इलाज न हो तो उसे बेकार कर देती है। इसलिए टीबी खतरनाक है। इसके कोई भी आसार नजर आने पर तुरंत जांच करा लेनी चाहिए। ऐसे में आइए जानते हैं टीबी के लक्षण क्या हैं?, टीबी के कारण और बचाव के तरीके क्या हैं?

टी.बी. के लक्षण क्‍या हैं? (Symptoms of TB)

अगर कोई व्यक्ति टीबी से संक्रमित हो जाता है, तो उसमें निम्नलिखित लक्षण दिख सकते हैं। जैसे-
तीन सप्‍ताह से ज्‍यादा खांसी
बुखार विशेष तौर से शाम को बढने वाला बुखार
छाती में दर्द
वजन कम होना
भूख में कमी
बलगम के साथ खून आना

छाती में दर्द

टीबी से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए 88569-88569 पर कॉल करें और पाएं डॉक्टर से FREE सलाह।

टीबी होने के कारण (Causes of TB)

कोरोना की तरह फेफड़ों की टीबी (TB) भी खांसी और छींक आदि के द्वारा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में प्रवेश कर सकती है। वहीं, टीबी का कारण बनने वाले बैक्टीरिया इस बीमारी को फैलाने का कारक होते हैं। इसके अलावा HIV के मरीजों, अस्पताल में काम करने वाले लोगों और सिगरेट पीने वालों में इसका खतरा ज्यादा होता है। बताते चलें कि हेल्दी इम्यून सिस्टम (Healthy Immune System) के जरिए टीबी बैक्टीरिया (TB Bacteria) से लड़ा जा सकता है, लेकिन अगर आपको HIV, डायबिटीज, किडनी की बीमारी, सिर या गर्दन का कैंसर है या फिर आपका वजन बहुत कम है तो आपको टीबी (TB) बीमारी आसानी से होने की संभावना ज्यादा होती है।

इसे भी पढ़ें- फेफड़ों से ज़्यादा खतरनाक है यूट्रस का टीबी, दिखते हैं ये 3 गंभीर लक्षण

टीबी से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए 88569-88569 पर कॉल करें और पाएं डॉक्टर से FREE सलाह।

टीबी से बचाव के तरीके (Tuberculosis Prevention)

  1. 2 सप्ताह से अधिक खांसी होने पर डॉक्टर से तत्काल परामर्श लें। डॉक्टर द्वारा बताए गए दवा का पूरा कोर्स लें। डॉक्टर से बिना पूछे दवा बंद न करें।
  2. हर बार खांसने या छींकने से पहले मुंह को पेपर नैपकिन से कवर करें।
  3. मास्क का इस्तेमाल करें।
  4. टीबी (TB) से पीड़ित व्यक्ति किसी एक प्लास्टिक बैग में थूके और उसमें फिनाइल डालकर अच्छी तरह बंद कर डस्टबिन में डाल दें। इधर-उधर नहीं थूकें।
  5. हवादार और अच्छी रोशनी वाले कमरे में पीड़ित व्यक्ति रहें। साथ ही AC से परहेज करें।
  6. पौष्टिक आहार खाएं।
  7. कसरत व योग करें।

इसे भी पढ़ें- नी रिप्लेसमेंट (Knee Replacement) क्या है, जानें- प्रकार और कारण

अकसर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

1. टीबी की बीमारी कैसे होती है?

टीबी (तपेदिक) आमतौर पर माइकोबैक्टेरियम ट्यूबरक्लोसिस के वजह से होता है। यह शरीर में बहुत धीरे-धीरे बढ़ता है। एक अनुमान के मुताबिक दुनिया की लगभग एक-चौथाई आबादी के टीबी बैक्टीरिया से संक्रमित होने का अनुमान है। वहीं, इनमें से बहुत बड़ी आबादी को इस बात की खबर तक नहीं है।

2. टीबी के मरीज को क्या खाना चाहिए?

ब्रोकली, टमाटर, शकरकंद तथा गाजर जैसी सब्जियां जिनमें एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होता है। यदि टीबी से पीड़ित व्यक्ति इन्हें अपने डाइट में शामिल करें तो उनके लिए फायदेमंद हो सकता है। 

3. टीबी के शुरुआती लक्षण क्या होते हैं?

• थकान
बुखार
• तीन या उससे ज्यादा सप्ताह से खांसी
खांसी में खून आना
खांसते या सांस लेते हुए सीने में दर्द होना
अचानक वजन घटना
ठंड लगना
सोते हुए पसीना आना

बुखार

 टीबी से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए 88569-88569 पर कॉल करें और पाएं डॉक्टर से FREE सलाह।

4. टीबी कितने प्रकार के होते हैं?

टीबी (ट्यूबरक्लोसिस) रोग माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस जीवाणु से होता है।
इसके दो प्रकार होते हैं-

  1. पल्मोनरी टीबी (फेफड़े संक्रमित होते)
  2. एक्स्ट्रा पल्मोनरी टीबी (फेफड़ों के बजाय शरीर के अन्य अंगों पर असर व उसी अनुसार लक्षण)

सेहत से जुड़ी किसी भी जानकारी के लिए 88569-88569 पर कॉल करें और पाएं Medpho के डॉक्टर से FREE सलाह।