Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

Medpho Team-November 16, 2021

इन 5 कारणों से जवानी में भी खराब हो सकते हैं घुटने

(knee pain causes in hindi) मानव शरीर में घुटनों का काफी अहम रोल है। हमारे द्वारा पूरे दिन की जाने वाली गतिविधि में घुटने काफी साथ देते हैं, जैसे ये चलते, उठते-बैठते, दौड़ते या सीढ़ियों पर चढ़ते समय शरीर का सारा भार उठाते हैं। लगातार ऐसी मेहनत के कारण घुटनों को चोट लगने और खराब होने का खतरा रहता है। पहले अक्सर ये सुनने को मिलता था कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ जोड़ों में परेशानी हो जाती है लेकिन हैरानी की बात तो ये है कि आजकल युवा भी जोड़ों में दर्द (knee pain), अकड़न और ऐंठन जैसी समस्या का सामना कर रहे हैं जो आने वाले समय के लिए खतरा हो सकता है। 

 

Knee pain

जोड़ों में दर्द के कारण (Knee pain causes)

जोड़ों में दर्द होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे- 

1.लंबे समय तक बैठना

लंबे समय तक एक ही स्थिति में बैठना जोड़ों में दर्द का सबसे बड़ा कारण है। हम दिन भर कई ऐसे काम करते हैं जिनमें लंबे समय तक बैठना मजबूरी हो जाती है, जैसे ऑफिस में लंबे समय तक बैठकर लैबटॉप पर काम करना, इस स्थिति में जोड़ों(knee joint pain) की मूमेंट नहीं हो पाती है और फिर व्यक्ति टेन्डंस की दर्द का शिकार हो सकता है। अगर आप लंबे समय तक एक ही अवस्था में बैठकर काम करते हैं तो अपनी पाॅजिशन का खास ध्यान रखें, इसके अलावा कुछ-कुछ देर में उठकर घूमते रहें। 

2.आर्थराइटिस

अगर कोई व्यक्ति आर्थराइटिस से पीड़ित है तो जोड़ों में दर्द (knee pain reasons) और अकड़न होना आम बात है। क्योंकि अर्थराइटिस से जोड़ों में सूजन पैदा होती है जिससे असहनिय दर्द होता है। आपको बता दें कि अर्थराइटिस जिसे आमतौर पर गठिया कहा जाता है ये रोग अक्सर ज्यादा उम्र के लोगों को होती है। लेकिन कुछ स्थिति में बच्चे और युवा भी इसके शिकार हो सकते हैं। 

अगर आपके जोड़ों में दर्द या ऐंठन है तो इसे बिल्कुल भी नज़रअंदाज़ ना करें, जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से परामर्श लें। इसके लिए आप हमारे हेल्पलाइन नंबर 88569-88569 पर कॉल करके एक्सपर्ट डॉक्टर से FREE में सलाह ले सकते हैं। 

Ayushman Expert Helpline


 
 

3.मोटापा

जिन लोगों का शरीर ज़रूरत से ज्यादा भारी होता है या वज़न संतुलित नहीं होता है उनमें जोड़ों (knee pain) की परेशानी ज्यादा देखी गई है। क्योंकि हमारे घुटने शरीर का सारा भार उठाते हैं, ऐसे में अगर आपके शरीर का वज़न ज्यादा होगा तो घुटनों को ज्यादा भार सहना पड़ता है जिसकी वजह से जोड़ कमजोर होने लगते हैं। 

4.बर्साइटिस

बर्सा में सूजन और जलन को बर्साइटिस कहते हैं। बर्सा एक पदार्थ की तरह होता है जो घुटनों को सपोर्ट देता है। बर्साइटिस की परेशानी आमतौर पर खेल से जुड़े लोगों को ज्यादा होती है। इसके अलावा जिम जाने वाले लोग या अधिक वजन उठाने वाले लोगों को भी बर्साइटिस की परेशानी हो सकती है, इस स्थिति में भी जोड़ों में दर्द (knee pain reasons) होता है। 

5.फ्रेक्चर

एक्सिडेंट या फिर पूरानी चोट भी एक समय बाद दर्द का रूप ले लेती है। अगर किसी दुर्घटना में आपको पहले घुटने में चोट लगी है तो ये भी दर्द में बदल सकता है। 

जोड़ों में दर्द के लक्षण (knee pain symptoms)

आजकल काफी लोगों में जोड़ों में दर्द(knee pain) की शिकायत देखी जा रही है। इसके पीछे कई कारण हैं जैसे- 

  • घुटनों में दर्द और आसपास सूजन 
  • जोड़ों में कठोरता और आसपास लाली का आभास होना
  • घुटने में कमजोरी महसूस होना
  • खड़े होने या चलने पर घुटनों से आवाज़ें आना 
  • खड़े होते समय घुटनों (knee pain symptoms) को सीधा करने में परेशानी होना। 

Knee pain

 

 अगर आप घुटने में दर्द जैसी समस्या का सामना कर रहे हैं या सेहत से जुड़ी किसी भी समस्या से परेशान हैं तो घबराएं नहीं। परेशानी बढ़ने से पहले Medpho हेल्पलाइन नंबर 88569-88569 #BasEkCall करके डॉक्टर से FREE सलाह लें।

Frequently Asked Question ( FAQs)

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

1.घुटने के दर्द को कैसे ठीक करें?

अगर आपको गठिया या अर्थराइटिस है तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से सलाह लें, क्योंकि समय के साथ -साथ ये समस्या और अधिक बढ़ सकती है। लेकिन अगर दर्द भागदौड़ करने से या फिर उम्र अधिक होने के कारण है तो रोज़ाना रात में सोने से पहले हल्के गुनगुने सरसो (knee pain treatment at home) तेल से जोड़ों की मालिश करें।

2. घुटने में दर्द होने के क्या कारण हैं?

घुटने में दर्द होने के कई सारे कारण(knee pain causes) हैं जैसे, शरीर का वजन बढ़ना, उम्र अधिक होना, मांसपेशियों में कमज़ोरी, खेल-कूद आदि। 

3. क्या खाना चाहिए?

अगर हमेशा आपके घुटनों में दर्द रहता है तो ये हड्डियों की कमजोरी के संकेत हैं। ऐसे में आप अपने भोजन में उन चीज़ों को शामिल करें जिससे हड्डियों को मजबूती मिले (knee pain treatment)।  

Ayushman Expert Helpline