Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

Juli Kumari-September 28, 2022

मिर्गी की बीमारी में क्या खाएं क्या नहीं, डायटीशियन से जानें

Epilepsy-diet-what-to-eat

मिर्गी एक प्रकार की दिमागी बीमारी है जो मस्तिष्क में किसी प्रकार की गड़बड़ी के कारण होती है। इस बीमारी में मरीज को मिर्गी डाइट (epilepsy diet) का खास ध्यान रखना होता है, क्योंकि डाइट खराब होने पर दौरे का प्रभाव बढ़ जाता है इतना ही नहीं डॉक्टर्स का कहना है कि मिर्गी में कीटोजेनिक डाइट (ketogenic diet for epilepsy) फॉलो करने से काफी हद तक सुधार देखा जाता है। 

मिर्गी के लिए खानपान (Epilepsy diet in hindi) 

जैसा की हमने ऊपर बताया मिर्गी के मरीजों को खानपान का खास ध्यान रखना होता है, मिर्गी के लिए खानपान को हिंदी (Epilepsy diet in hindi) में समझने के लिए नीचे डाइट चार्ट दिया गया है जो आपकी जीनवशैली में सुधार कर मिर्गी से छुटकारा पाने में मदद करेंगे। 

दिन

सुबह के समय 

नाश्ता

दिन का खाना

शाम

रात का खाना

पहला दिन

घी वाली काली चाय, 5 बादाम, 2 अखरोट (रात भर भीगी हुई)

2 उबले अंडे का आमलेट

1-2 रोटी (बादाम का आटा) 1 कटोरी पनीर करी, चुकंदर का रायता

भुनी हुई मूंगफली, 1 कप ग्रीन टी

1 कटोरी उबली हुई पीली मूंग दाल

दूसरा दिन

ब्लैक कॉफ़ी + 5 बादाम, 2 अखरोट (रात भर भीगे हुए)

मूंग दाल चीला

1-2 रोटी (चिया का आटा ), मटन करी, खीरा सलाद

भुनी हुई सब्जियां (मशरूम गाजर, टमाटर, फूलगोभी)

1 कटोरी फूलगोभी का सूप

तीसरा दिन

काली चाय,  5 बादाम, 2 अखरोट (रात भर भीगी हुई)

रागी और बेसन पैनकेक

फिश करी, 1 कटोरी ब्राउन राइस

1 कटा हुआ खीरा

1 कटोरी पालक का सूप, भुना हुआ चिकन

चौथा दिन

घी वाली काली चाय, 5 बादाम, 2 अखरोट (रात भर भीगी हुई)

ग्रील्ड टोफू सैंडविच

ग्रील्ड टोफू सैंडविच

1 कप नारियल पानी

1 कप चिकन सलाद

पनीर टिक्का के टुकड़े

पांचवा दिन

घी के साथ ब्लैक कॉफी, 5 बादाम, 2 अखरोट (रात भर भीगी हुई)

मूंगफली और स्ट्रॉबेरी शेक

नारियल के आटे की रोटी, चिकन बटर मसाला

उबले काले चने का सलाद

1 कटोरी चिकन शोरबा

छठा दिन

घी वाली काली चाय, 5 बादाम, 2 अखरोट (रात भर भीगी हुई)

1-2 तले हुए अंडे

1 कप नारियल पानी

1-2 चिया आटे की चपाती, मेथी साग

कद्दू के बीज के साथ 1 कप पपीते की स्मूदी



आयुष्मान कार्ड से मिर्गी के FREE इलाज के लिए Medpho हेल्पलाइन नंबर 88569-88569 पर कॉल करें या नीचे दिए गए फॉर्म को भरें।

 

मिर्गी के लिए खानपान (Diet for epilepsy in hindi)

सही खानपान आपको मिर्गी की सर्जरी के बाद जल्दी स्वस्थ होने में मदद करता है। आप भले ही अपनी दवाइयां समय से ले रहे हैं लेकिन आपका खानपान संतुलित नहीं है तो शायद आपकी परेशानी और अधिक बढ़ सकती है, तो अगर आप मिर्गी के रोगी हैं तो नीचे दिए गए खानपान को अपनाएं ये आपको जल्दी रिकवर होने में मदद करेंगी। 

1. ओमेगा 3 (मछली और समुद्री भोजन) 

समुद्री भोजन में ओमेगा 3 और प्रोटीन आदि मिलते हैं और प्रोटीन युक्त भोजन मिर्गी के रोगियों के लिए काफी फायदेमंद माने जाते हैं। मछली का सेवन मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करती है। इसके अलावा आप सामन, दही, अंडे, अखरोट, चिया सीड्स, फ्लैक्स सीड्स, सोयाबीन और फूलगोभी भी खा सकते हैं।

2. कम कार्ब वाली सब्जियां- हरी सब्जियां सेहत के लिए काफी फायदेमंद होती हैं। मिर्गी डाइट (epilepsy diet) में डॉक्टर खासतौर पर हरी सब्जियां शामिल करते हैं। इसमें आप ब्रोकोली, फूलगोभी, हरी बीन्स, शिमला मिर्च, तोरी और पालक आदि को शामिल कर सकते हैं।

3. अंडे- अंडे में प्रोटीन, विटामिन बी, खनिज और एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा काफी ज्यादा होती है। अंडे के सेवन से पेट लंबे समय तक भरा हुआ महसूस होता है जो आपके ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखने में मदद करता है।

आयुष्मान कार्ड से मिर्गी के FREE इलाज के लिए Medpho हेल्पलाइन नंबर 88569-88569 पर कॉल करें या नीचे दिए गए फॉर्म को भरें।

 

4. नट और फलों के बीज- नट्स और फल व सब्जियों के बीज प्रोटीन और स्वस्थ वसा के अच्छे स्त्रोत होते हैं, इसके लिए आप नारियल, सूरजमुखी के बीज, कद्दू के बीज, तिल, अखरोट, बादाम, अलसी और चिया के बीज का सेवन कर सकते हैं। 

5. फलों का सेवन- मिर्गी के लिए खानपान (Diet for seizures) में कुछ ऐसे फलों को शामिल किया जाता है जिनमें शुगर की मात्रा कम होती है जैसे - स्ट्रॉबेरी, क्रैनबेर, रास्पबेरी और ब्लैकबेरी आदि।

Epilepsy-diet

मिर्गी बीमारी में क्या नहीं खाना चाहिए 

मिर्गी की समस्या होने पर पीड़ित व्यक्ति को खाने की कुछ चीज़ों से परहेज करना चाहिए जैसे- 

1. उच्च कार्ब्स वाले अनाज- अनाज में कार्बोहाइड्रेट उच्च मात्रा में पाया जाता है जैसे- राई, जई, सफेद रोटी, सफेद आटा, गेहूं की रोटी, गेहूं और मक्का, इन चीज़ों से परहेज करना चाहिए। 

2. सब्जियां-  कुछ सब्जियों में ज्यादा मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स पाए जाते हैं इसलिए शकरकंद, आलू, मक्का, मटर और कद्दू आदि खाने से पहरहेज करें।

3. फल- वैसे तो फल सेहत के लिए काफी फायदेमेंद होते हैं लेकिन कुछ फलों में कार्ब्स की मात्रा अधिक होती है जैसे - संतरा, अनानास, अंगूर, आड़ू, आम, फलों के रस और स्मूदी आदि।

4. वसा और तेल-मसाले-  ज्यादा वसा और ज्यादा मसाले शरीर में सूजन को बढ़ाने का काम करते हैं, इसलिए खाने में ज्यादा तेल मसालों का सेवन ना करें, इसके अलावा मिर्गी के मरीजों के लिए मूंगफली का तेल, कैनोला तेल, सूरजमुखी का तेल और सोयाबीन का तेल भी नुकसानदायक है।

5. शराब और धूम्रपान - शराब और धूम्रपान सेहत के लिए हानिकारक माने जाते हैं, ये कई गंभीर बीमारियों का कारण बनते हैं इसलिए अगर आप धूम्रपान व शराब आदि के शौकीन हैं तो आज से इनका सेवन बंद कर दें। 

ये भी पढ़ें: मिर्गी क्या है? जानें- कारण, लक्षण, प्रकार और इलाज

आयुष्मान कार्ड से मिर्गी के FREE इलाज के लिए Medpho हेल्पलाइन नंबर 88569-88569 पर कॉल करें या नीचे दिए गए फॉर्म को भरें।

 

ब्लॉग में दी गई तथ्यों की पुष्टि ,

डॉ राहुल शर्मा जनरल फिजिशियन (एमबीबीएस)

Frequently Asked Question ( FAQs)

1. मिर्गी रोग में क्या नहीं खाना चाहिए?

मिर्गी के मरीजों को गुड फैट और कम कार्ब्स वाले भोजन करने चाहिए। इसके अलावा खाने में हाई प्रोटीन डाइट को शामिल किया जाना चाहिए जिससे मिर्गी के लक्षणों को कम किया जा सके।

2. मिर्गी के लिए कौन सा खाना अच्छा है?

मिर्गी में आप फल, पनीर, मांस और मछली खा सकते हैं।

3. मिर्गी आने का क्या कारण है?

डॉक्टर के अनुसार मिर्गी आने के पीछे कोई कारण नहीं है, इसे आमतौर पर मस्तिष्क की क्षति बताया जाता है। 

आयुष्मान कार्ड से मिर्गी के FREE इलाज करवाने के लिए मेडफो हेल्पलाइन नंबर 88569-88569 पर कॉल करें या नीचे दिए गए फॉर्म को भरें।