Loading...

ब्लॉग

घर   ब्लॉग

Juli Kumari-August 06, 2022

वर्ल्ड बैंक ने भारत के हेल्थकेयर सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए दिया 1.75 अरब डॉलर का कर्ज

world-bank

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojana) और प्राइवेट इंवेस्टमेंट को बढ़ावा देने के लिए विश्व बैंक ने कुल 1.75 अरब अमेरिकी डॉलर (लगभग 13,834.54 करोड़ रुपये) के कर्ज को मंजूरी दी है। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस कर्ज में से 7  हजार 891 करोड़ रुपए स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए और बाकि 6 हजार 5 सौ 50 करोड़ रुपए अर्थव्यवस्था में प्राइवेट सेक्टर के निवेश को बढ़ावा देने के लिए दिए जाएंगे।ध्यान देने वाली बात यह है कि ये  क्रेडिट डेवलपमेंट पॉलिसी लोन (credit development policy loan) के रूप में होगा।


हेल्थकेयर सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए मिली दो पूरक ऋणों को मंजूरी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि विश्व बैंक के कार्यकारी निदेशक मंडल (Executive Board of Directors) ने भारत के हेल्थ केयर सेक्टर (Health care Sector of India) को समर्थन बढ़ाने के लिए 50-50 करोड़ डॉलर के दो पूरक ऋणों (Supplementary Loans) को मंजूरी दी।

 



विश्व बैंक भारत की पीएम-एबीएचआईएम (
PM-ABHIM) का करेगा समर्थन

दरअसल, विश्व बैंक ने शुक्रवार को एक विज्ञप्ति में कहा कि एक अरब डॉलर के इस संयुक्त वित्तपोषण (Joint Financing) के जरिए विश्व बैंक (World Bank ) भारत की प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत स्वास्थ्य अवसंरचना मिशन (PM-ABHIM) का समर्थन करेगा। वहीं, इस योजना की शुरुआत अक्टूबर 2021 में हुई थी।

कहां होगा फंड का इस्तेमाल?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस राशि का इस्तेमाल देशभर में सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए किया जाएगा। जारी विज्ञप्ति के अनुसार एक ऋण के तहत आंध्र प्रदेश, केरल, मेघालय, ओडिशा, पंजाब, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश जैसे 7 राज्यों को प्राथमिकता दी जाएगी।

Ayushman Bharat scheme

लोन पॉलिसी को दी मंजूरी

ध्यान देने वाली बात यह है कि विश्व बैंक के बोर्ड ने बुनियादी ढांचे, छोटे व्यवसायों और हरित वित्त बाजारों (Green Finance Markets) में निजी निवेश को बढ़ावा देने के लिए विकास नीति ऋण (Development Loan Policy) को भी मंजूरी दिया है।